हाइटेक सिक्योरिटी सिस्टम से लैस होगी नोएडा की सड़के, बोर्ड से मिलेगी ट्रेफिक की जानकारी-Noida

नोएडा शहर में 88 करोड़ रुपये की लागत से हाइटेक सिक्योरिटी सिस्टम स्थापित किया जाएगा।

इस हाइटेक सिस्टम में सीसीटीवी समेत तीन और खास तरीके के कैमरे लगाए जाएंगे। ये तीन खास कैमरे ऑटोमेटिक नंबर प्लेट रिकॉग्निशन कैमरा, रेड लाइट वायलेशन डिटेक्शन कैमरा और सर्विलांस कैमरे होंगे।

इतना ही नहीं पूरे शहर में 84 रेड लाइट पर एक हजार से ज्यादा सीसीटीवी (CCTV) कैमरे भी लगाए जाएंगे।

बता दें कि ये सभी कैमरे कमांड एंड कंट्रोल सेंटर से कनेक्ट होंगे। इस कैमरे की सहायता से किसी भी भागते हुए अपराधी या फिर सड़क पर घूम रहे अपराधियों की निगरानी की जाएगी।

कमांड सेंटर से नोएडा की सिविल और ट्रैफिक पुलिस को पल-पल की जानकारी प्राप्त होती रहेगी। नोएडा अथॉरिटी में इस प्रस्ताव को मंजूरी मिल चुकी है, जिसके बाद इस पर काम शुरू किया जा चुका है।

ऐसे काम करेंगे तीन खास तरह के कैमरे

RLVD कैमरा-

रेड लाइट वायलेशन डिटेक्शन कैमरा से वैसे लोगों की निगरानी की जाती है जो जो रेड लाइट जंप करते हैं। यह कैमरा ऐसे लोगों की इमेज कैप्चर करके वाहन के नंबर के आधार पर खुद ही चालान काट देता है।

पहले चरण के कार्य में पूरे शहर के 84 चौराहे पर 1065 सीसीटीवी कैमरे लगाए जा रहे हैं।

जबकि दूसरे चरण में 32 चौराहे पर और तीसरे चरण में बाकी बचे 32 चौराहे पर सीसीटीवी कैमरे लगाए जाने की योजना है।

ANPR कैमरा–

यह एक ऑटोमेटिक नंबर प्लेट रिकॉग्निशन कैमरा है. नोएडा अथॉरिटी के अफसरों ने बताया कि इसे शहर के करीब 693 पाइंट पर इस कैमरे को लगाए जाने की योजना है।

यह कैमरा खुद से वाहनों की नंबर प्लेट पढ़कर चालान काट सकता है। कमांड कंट्रोल रूम में बैठे पुलिस अधिकारी इस कैमरे की मदद से सड़क पर नज़र रख सकते हैं और नियम का उल्लंघन करने वाले का चालान काट सकते हैं।

Surveillance कैमरा-

सर्विलांस कैमरा विशेष रूप से पुलिस की सहायता करेगा।

शहर के 354 पाइंट पर इसे लगाया गया है। यह कैमरा वाहनों पर चलने वाले लोगों के चेहरों पर फोकस करेगा। इस कैमरे की खूबी यह है कि यह बेहद करीब से इंसान के चेहरे पर फोकस करता है।

इस कैमरे से पुलिस आसानी से बदमाशों की पहचान कर सकेगी और उनकी गिरफ्तारी में सहायता मिलेगी।

नोएडा. 5-10 या 10-20 नहीं, पूरे 88 करोड़ रुपये की लागत से नोएडा शहर हाइटेक सिक्योरिटी सिस्टम (Hi-Tech Security System) के हवाले होने जा रहा है. इस हाइटेक सिस्टम में सीसीटीवी समेत तीन और खास तरीके के कैमरों का इस्तेमाल किया जाएगा.

ये तीन खास कैमरे ऑटोमेटिक नंबर प्लेट रिकॉग्निशन कैमरा, रेड लाइट वायलेशन डिटेक्शन कैमरा और सर्विलांस कैमरा होगा. इसके अलावा शहरभर की 84 रेड लाइट पर एक हजार से ज्यादा सीसीटीवी  (CCTV) कैमरे भी लगाए जाएंगे. ये सभी कैमरे कमांड एंड कंट्रोल सेंटर से कनेक्ट होंगे.

Also Read

#अछूत_कब_और_कैसे – Dr Tribhuwan Singh

इनकी मदद से किसी भी भागते हुए अपराधी या फिर सड़क पर घूम रहे अपराधियों (Criminal) पर आसानी से नज़र रखी जा सकेगी.

कमांड सेंटर से ही नोएडा की सिविल और ट्रैफिक पुलिस को पल-पल की जानकारी मिलती रहेगी. नोएडा अथॉरिटी (Noida Authority) में इस प्रस्ताव को मंजूरी मिलने के बाद अब काम भी शुरू हो गया है.

अपनी टाइमिंग खुद सैट करेगी ग्रीन लाइट

इंटेलीजेंट ट्रांसपोर्ट मैनेजमेंट सिस्टम (आईटीएमएस) के तहत एडेप्टिव ट्रैफिक कंट्रोल सिस्टम को बेहद अहम् माना जाता है।

यह कैमरा इस मायने मे खास है कि ट्रैफिक लाइट पर वाहनों की संख्या जब अधिक होती है तो ग्रीन लाइट का वक्त खुद से ही बढ़ जाता है, इससे ज़्यादा से ज़्यादा वाहनों को निकलने का मौका मिल सकेगा।

जैसे ही वाहनों की संख्या कम हो जाएगी तो ग्रीन लाइट फिर से अपना टाइम बदल लेगी। प्रारम्भ में नोएडा के करीब 40 हैवी ट्रैफिक वाली रेड लाइट पर यह सिस्टम लगाया जाएगा।

सड़क पर चलते हुए आपको ऐसे मिलेगी रहेगी ट्रैफिक की जानकारी

आईटीएमएस के तहत नोएडा में 22 स्थानो पर वैरिएबल मैसेज साइनबोर्ड लगाने की योजना बनाई गई है यह बोर्ड इस मायने में खास है कि रास्ता बताने के साथ ही .

यह आपको शहर के ट्रैफिक की भी जानकारी मुहैया कराता रहता है जिससे कोई भी ट्रैफिक जाम में न फंसे। मान ले कि कहीं जाम की स्थिति बनी हुई है और ट्रैफिक डायवर्ट कर दिया गया है या फिर कोहरे के चलते रास्ता साफ नहीं है तो इसकी सूचना इस बोर्ड पर स्वतः मिल जाएगी।

अपनी टाइमिंग खुद सैट करेगी ग्रीन लाइट

इंटेलीजेंट ट्रांसपोर्ट मैनेजमेंट सिस्टम (आईटीएमएस) के तहत एडेप्टिव ट्रैफिक कंट्रोल सिस्टम बेहद खास माना जाता है.

इसकी खासियत यह है कि ट्रैफिक लाइट पर वाहनों की संख्या ज़्यादा होने पर ग्रीन लाइट का वक्त खुद से ही बढ़ जाएगा. जिससे ज़्यादा से ज़्यादा वाहनों को निकलने का मौका मिल सके.

Also Read

फतेहपुर में BJP नेता की सपा नेता ने की पिटाई, धरने पर बैठे विधायक

अगर थोड़ी देर बाद वाहनों की संख्या कम हो जाएगी तो ग्रीन लाइट फिर से अपना टाइम बदल लेगी. शुरुआत में नोएडा के करीब 40 हैवी ट्रैफिक वाली रेड लाइट पर यह सिस्टम लगाया जाएगा.

सड़क पर चलते हुए आपको ऐसे मिलेगी रहेगी ट्रैफिक की जानकारी

आईटीएमएस के तहत नोएडा में 22 जगहों पर वैरिएबल मैसेज साइनबोर्ड लगाने की भी योजना है.

इन बोर्ड की खासियत यह है कि रास्ता बताने के साथ ही यह आपको शहर के ट्रैफिक की भी जानकारी देते रहेंगे जिससे आप कहीं भी ट्रैफिक जाम में न फंसे.

जैसे अगर कहीं जाम लगा है, ट्रैफिक डायवर्ट कर दिया गया है या फिर कोहरे के चलते रास्ता साफ नहीं है तो इसकी सूचना इस बोर्ड पर मिल जाएगी.

शेयर करने के लिए धन्यवाद्

You may also like...